Home » Geeta Darshan Vol. 04 by Osho
Geeta Darshan Vol. 04 Osho

Geeta Darshan Vol. 04

Osho

Published
ISBN :
Hardcover
392 pages
Enter the sum

 About the Book 

कृषण अरजुन से उस कषण, उस मारग, मृतयु की उस कला की बात इन सूतरों में करेंगे, जिस कला को जानने वाला, जिस मारग को पहचानने वाला, मर कर मरता नहीं, अमृत को उपलबध हो जाता है। ओशो इस पुसतक में गीता के आठवें व नौवें अधयाय--अकषर-बरहम-योग और राजविदया-राजगुहMoreकृष्ण अर्जुन से उस क्षण, उस मार्ग, मृत्यु की उस कला की बात इन सूत्रों में करेंगे, जिस कला को जानने वाला, जिस मार्ग को पहचानने वाला, मर कर मरता नहीं, अमृत को उपलब्ध हो जाता है। ओशो इस पुस्तक में गीता के आठवें व नौवें अध्याय--अक्षर-ब्रह्म-योग और राजविद्या-राजगुह्य-योग--तथा विविध प्रश्नों व विषयों पर चर्चा है।